Showing posts with label Computer. Show all posts
Showing posts with label Computer. Show all posts

Basic ICT Skills and Shortcut Keys of Computer in Hindi

Basic ICT Skills and Shortcut Keys of Computer in Hindi

कंप्यूटर आज की दुनिया में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। बिना कम्प्यूटर के ये संसार बिल्कुल अधूरा सा दिखाई देता है। 
मेरा इस पोस्ट को लिखने का उद्देश्य उन लोगों की मदद करना है जो विभिन्न प्रकार की एप्लिकेशन के लिए Basic ICT Skills and Shortcut Keys को सीखना चाहते हैं, जो कम्प्यूटर के काम को बहुत ही आसान बना सकती है। 

यह पोस्ट MS-Office (Word, Excel, and PowerPoint), Adobe Photoshop, Adobe PageMaker, Corel PaintShop Pro, Corel Draw, Chrome Browser and Typing Skill पर आधारित है, जिससे किसी भी सॉफ्टवेयर और कम्प्यूटर कों चलाने में बहुत ही आसानी हो जाएगी।
basic-ict-skills-and-shortcut-keys-of-computer-in-hindi, computer post, computer books, computer short cut keys,
Information Technology की सुविधा के आधार पर, इन टेक्नोलॉजी के दिनों में मैने देखा कि हर एक व्यक्ति चाहे वो स्कूल से जुड़ा हो या किसी संस्था से, सभी लोग कम्प्यूटर का हिस्सा है, लेकिन मुख्य बात ये है कि वो लोग इस टेक्नोलॉजी की उस तरह से फायदा नहीं उठा पा रहे जैसे कि उन्हें उठाना चाहिए। 

ये विचार मेरे दिमाग में जब आया जब मैने एक कम्प्यूटर लैब में दो बच्चो को एक टास्क पुरा करते देखा। जिसमे से एक बच्चा साधरण तरीके से काम कर रहा था, और दूसरा बच्चा शॉर्टकट key से फास्ट काम कर रहा था। 

तब मैने इस पोस्ट को लिखने का सोचा, जिससे की Present और फ्यूचर की समस्याओं का समाधान हो सकें।

मै उस स्टूडेंट का बहुत आभारी हूं जिसको देखकर मुझे इस पोस्ट को लिखने का आईडिया आया।

मुझे पुरा विश्वास है, कि इस पोस्ट की सीरीज आपके कीबोर्ड शॉर्टकट्स के साथ कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर को इस्तेमाल करने में कीमती समय को बचाएगी, और आपको कंप्यूटर व information Technology के फील्ड में एक्सपर्ट जरूर बना देगी। 

Content in Post Series

  1. Introduction to Computer 
  2. Operating System
  3. Windows 10 Shortcut Keys
  4. MS-Word Shortcut Keys
  5. MS-Excel Shortcut Keys
  6. MS-PowerPoint Shortcut Keys
  7. Adobe Photoshop Shortcut Keys
  8. Corel PaintShop Pro Shortcut Keys
  9. Adobe Page Maker Shortcut Keys
  10. CorelDRAW Shortcut Keys
  11. Google Chrome Shortcut Keys
  12. Windows Generation (Year wise)
  13. Tips to Improve Performance in Windows 10
  14. Hidden Features of Windows 10
  15. Keyboard Tricks to Save Time Every Day
  16. How to Make Symbols with Keyboard
  17. Facts about Passwords That Will Make
  18. You THINK 
  19. Typing Skills
  20. Video Conferencing App
  21. Full Forms
इस सीरीज में कुल 21 चेप्टर है। मै हर एक चेप्टर पर एक पोस्ट लिखूंगा और उसका लिंक आपको यही पर मिल जाएगा। जिससे आप किसी भी चेप्टर पर डायरेक्ट पहुच सकते हैं।

तो कंप्युटर में एक्सपर्ट बनने के लिए हमारे ब्लॉग से जुड़े रहें और अपडेट रहें। जैसी अगली पोस्ट आएगी तो आपको पता चल जाएगा।
Share:

Types of Memory in Computer

Types of Memory in Computer

मेमोरी कंप्यूटर का सबसे अच्छा आवश्यक तत्व है क्योंकि कंप्यूटर सरल कार्य नहीं कर सकता। का प्रदर्शन कंप्यूटर मुख्य रूप से मेमोरी और सीपीयू पर आधारित होता है। मेमोरी है कंप्यूटर का इंटरनल स्टोरेज मीडिया जिसके कई नाम होते हैं जैसे प्रमुख रूप से दो प्रकारों में वर्गीकृत। मुख्य स्मृति और सेकेंडरी मेमोरी।

Primary Memory/Main Memory

प्राइमरी मेमोरी, इसे मेन मेमोरी भी कहा जाता है। यह Volatile Memory है। यह कंप्यूटर के महत्वपूर्ण भागों में से एक है, क्योंकि मेमोरी का आकार कार्यक्रमों की लंबाई और संख्या निर्धारित करता है।
जिसे एक बार में स्टोर किया जा सकता है। इसका आकार डेटा की राशि को भी दर्शाता है, जो जल्दी से संसाधित किया जा सकता है। 
  • प्राथमिक मेमोरी केवल वही डेटा और निर्देश रखती है जिस पर कंप्यूटर वर्तमान में काम कर रहा है। यह डेटा को परमानेंट स्टोर नहीं करतीं है।
  • यह ऑपरेटिंग सिस्टम और आवश्यक डेटा को भी स्टोर करती है।
  • यह एक सीमित क्षमता की मेमोरी है, और डेटा या सूचना को लाइट बंद हों जाने पर lost कर देती है। 
  • इसमें सभी डेटा और निर्देश शामिल होते हैं जिन्हें संसाधित करने की आवश्यकता है। 
यह मेमोरी दो प्रकार की होती है।
1. RAM (Random Access Memory)
2. ROM (Read Only Memory)

RAM (Random Access Memory)

Random Selection के कारण यह रैंडम एक्सेस मेमोरी होती है। यह मेमोरी पर ऑपरेशन पढ़ने और लिखने दोनों का प्रदर्शन करता है।  

इसमें डेटा और निर्देशों को प्राइमरी मेमोरी के अंदर अस्थायी रूप से संग्रहीत किया जाता है। वे RAM से गायब हो जाते हैं जैसे ही कंप्यूटर की बिजली बंद हो जाती है।

ROM (Read Only Memory)


ROM को Read Only Memory कहा जाता है। यह Integrated Circuit से बनी हुई परमानेंट मेमोरी होती है। Power Supply के बंद हों जाने पर भी यह अपने डेटा और निर्देशो को लोस्ट नही करती है।

ROM को केवल CPU ही पढ़ सकता है, और CPU इसके डेटा और निर्देशो को बदल नही सकता हैं।

बेसिक इनपुट/आउटपुट प्रोग्राम को ROM में स्टोर किया जाता है। तरह तरह के Equipment को चलाने के लिए इसके द्वारा ही निर्देष दिया जाता हैं। 

ROM उन सभी डेटा प्रोग्राम और निर्देशो को परमानेंट स्टोर करके रखती है जिसकी जरूरत कम्प्यूटर को यूजर के प्रोग्राम को चलाने के लिए पड़ती है।
Share:

What is Memory in Computer and Memory Organization

What is Memory in Computer

Computer के बारे में आजकल हर कोई जानता है, क्योंकि आज के जमाने में मनुष्य की 50% से अधिक जिंदगी सिर्फ़ कंप्यूटर पर निर्भर हैं।

लेकिन क्या आप कंप्यूटर की मेमोरी के बारे में जानते है कि कंप्यूटर में मेमोरी क्या है? इसके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं। 
What is Memory in Computer, computer memory, Primary memory, secondary memory

तो आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे कि कंप्यूटर में मेमोरी क्या है? और Memory Organization क्या है। 

What is Memory?

मेमोरी एक इलेक्ट्रॉनिक सर्किट होती है जो डेटा को स्टोर एवं प्रसारण करने की अनुमति देती है। 

मेमोरी 2 प्रकार की होती है। पहली मेमोरी प्राइमरी मेमोरी व दूसरी मेमोरी सेकंडरी मेमोरी होती है।  

प्राइमरी मेमोरी :- प्राइमरी मेमोरी कंप्यूटर के डेटा को प्रसारण करने का काम करती है।

सेकंडरी मेमोरी :- सैकंडरी मेमोरी कम्यूटर के डेटा को स्टोर करने का काम करती है। 


अगर कम्प्यूटर चालू है और अचानक से कंप्यूटर की लाइट बंद हों जाती है तो प्राइमरी मेमोरी अपने डेटा को खो देती है, जबकि सैकंडरी मेमोरी अपने डेटा को स्टोर करके रखती हैं।

मेमोरी कंप्यूटर सिस्टम का एक अनिवार्य हिस्सा होता है। कंप्यूटर सिस्टम द्वारा निर्देशों को संग्रहीत करना आवश्यक  है।

Memory Organization in Computer

जैसे कि आपको उपर बताया गया है कि मेमोरी 2 प्रकार की होती हैं। प्राइमरी मेमोरी  और सैकंडरी मेमोरी। 

सैकंडरी मेमोरी दर्शाता है बाहरी सिस्टम को, जैसे डिस्क ड्राइव या टेप ड्राइव। 

जबकि प्राइमरी मेमोरी वास्तव में तेज अर्धचालक को दर्शाती है। प्राइमरी मेमोरी को RAM भी कहते हैं।  

प्राइमरी मेमोरी सीधे CPU से कनेक्ट होती है। जबकि सैकंडरी मेमोरी सीपीयू के बाहर होती है। 

Conclusion:- हमने आज की इस पोस्ट में आपको बताया है कि मेमोरी क्या होती है। बहुत मेहनत के बाद साधारण से साधारण तरीके से हमनें इस पोस्ट को लिखा है। 
हमें पुरा विश्वास है कि आपको ये पोस्ट बहुत ही पसंद आई होगी। पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।
Share:

10 Hardware and Software Names

10 Hardware and Software Names

Hardware and software का नाम आपने बहुत बार सुना होगा। लेकीन हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर कौन कौन से होते है ये शायद आपको नही पता होगा। 

मेरा नाम दीपक कुमार है। मैं 2020 से Blogs और Websites पर काम कर रहा हूं। आज मैं आपको 10 Hardware and Software के नाम बताने वाला हूं।

Hardware and Software, ये कंप्यूटर का ही पार्ट होते हैं। लेकीन हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर अलग अलग होते है। अगर आप जानना चाहते हैं कि हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर क्या होते है तो आप यहां क्लिक करके जान सकते हैं।
10 Hardware and Software Names, computer, hardware, software,what is, hardware

तो आज कि इस पोस्ट में 10 हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के नाम जानते है।

10 Hardware Names

हम नीचे आपको 10 हार्डवेयर के नाम देने जा रहे हैं। आप इन्हें ध्यान से पढ़े।

  1. Monitor
  2. Motherboard
  3. Main Memory
  4. Central Processing Unit (CPU)
  5. Main Memory Unit
  6. Power Supply Unit (CPU)
  7. Optical Disk Drive (ODD)
  8. Hard Disk Drive (HDD)
  9. Keyboard
  10. Mouse

10 Software Names

हम नीचे आपको 10 सॉफ्टवेयर के नाम देने जा रहे हैं। आप इन्हें ध्यान से पढ़े।
  1. Operating System
  2. Internet Browser
  3. MS Word
  4. MS Excel
  5. MS PowerPoint
  6. Turbo C++
  7. Net Beans
  8. MS Access
  9. Word Pad
  10. Note Pad

Conclusion:- तो आज की इस पोस्ट में आपने 10 Hardware and Software Names जाने। 

हमें पूरी उम्मीद है कि आपको इस पोस्ट से हेल्प जरूर मिली होगी। अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तो को शेयर करें।
Share:

Is it necessary to do computer course for maintaining business?

Is it necessary to do computer course for maintaining business?

Computer Course या कहें कि कंप्यूटर की जानकारी आज के जमाने में होना बहुत ही जरूरी है। लेकिन बिजनेस को चलाने के लिए कंप्यूटर कोर्स होना जरूरी है या नहीं, आज इस पोस्ट में जानते हैं।

मेरा नाम दीपक कुमार है। मैं 2020 से Blogs और Websites पर काम कर रहा हूं। आज मैं आपको बताने वाला हूं कि क्या किसी बिजनेस को चलाने के लिए कंप्यूटर कोर्स होना जरूरी है?

कंप्यूटर की जानकारी के बिना बिजनेस

ऐसे बहुत सारे बिजनेस होते है जिनमे कंप्यूटर की जानकारी का होना जरूरी नही होता। आप बिना कंप्यूटर की जानकारी के भी बहुत सारे बिजनेस को चला सकते हैं। 

इसके लिए आपको ऐसे ही बिजनेस को करना होगा जिसमें कोई चीज ऑनलाईन ना हो। या आपको उसमे बिलिंग ना करनी पड़ रही हो। 
अगर आप इस तरह के बिजनेस को करेंगे तो आपको किसी भी तरह के कंप्यूटर कोर्स की जानकारी की जरूरत नहीं होगी।

जैसे :- अगर आप एक छोटा सा किराना का दुकान चलाते हो तो इसमें आपको कंप्यूटर कोर्स करने की कोई जरूरत नही है। आप कच्चे बिल पर ही ग्राहक को सामान दे सकते हैं।

कंप्यूटर की जानकारी के बिजनेस

कुछ बिजनेस ऐसे भी होते है जिसमे आपको कंप्यूटर की जानकारी होना अति आवश्यक है। ऐसे बिजनेस को आप बिना कंप्यूटर कोर्स की जानकारी के बिल्कुल भी नही कर सकते। 

जैसे :- अगर आप कोई कस्टमर सर्विस सेंटर चलाना चाहते हो तो इसके लिए आपको कंप्यूटर की जानकारी होना बहुत ही जरूरी हैं। 

इसी के साथ आप कोई भी बिजनेस करते है जिसमे आपको ऑनलाईन की जरूरत पड़ती हैं, अगर आप अपनी बिजनेस की सभी चीजों को ख़ुद से हैंडल करते है तो आपको कंप्यूटर कोर्स करना चाहिए। 

Conclusion:- हमने इस पोस्ट में आपका ये सवाल हल किया है की आप कंप्यूटर की जानकारी के बिना किसी बिजनेस को कर सकते है या नही। 

तो फाइनली ऐसा जरूरी नही है कि आपको अपने बिजनेस को मेनटेन करने के लिए कंप्यूटर कोर्स करना जरूरी है  आप बग़ैर कंप्यूटर कोर्स के भी बहुत सारे बिजनेस कर सकते हैं।

हमें पूरी उम्मीद है कि ये पोस्ट आपको पसंद आई होगी। अगर पसंद आई हों तो अपने दोस्तो को जरूर शेयर करें।
Share:

Power Consumption of Sony Digital Printer UP D897

Power consumption of Sony Digital Printer UP D897

क्या आप भी अपने घर या दुकान में Printer का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन आपको भी नही पता कि आपका Printer कितनी Power Consumption करता है।

Sony Digital Printer UP D897 Printer कितनी Power Consumption करता है, ये आपको सबसे लास्ट में बताया जाएगा। इससे पहले आपको ये जानना जरूरी है की प्रिंटर Power Consume करता कैसे है।

Printer क्या है? ये तो सभी जानते हैं। अगर नहीं पता है तो लिंक पर क्लिक करके जान सकते हैं।

मेरा नाम दीपक कुमार है। मैं 2020 से Blogs और Websites पर काम कर रहा हूं। आज मैं आपको Printer के Power Consumption के बारे में बताने जा रहा हूं।

हमने Printer की Power Consumption के बारे में अपनी खुद की काफी रिसर्च करने के बाद इस पोस्ट को लिखा है। हमें पुरा विश्वास की इस पोस्ट में आपको आपके सवाल का जबाव मिल जाएगा।

Printers कितनी Power Consumption करते हैं?

Printer की Power Consumption आपके Printer के ऊपर निर्भर करती है। हर एक प्रिंटर की Power Consumption अलग अलग होती है।

Printer की Power Consumption को समझने के लिए आपको सबसे पहले ये देखना होगा कि वह प्रिंटर कितनी Ampare का है और कितने वोल्टेज पर चलता है।
Power Consumption of Sony Digital Printer UP D897, power Consumption by Printer, printer power, printer watt,
जैसी हमने उपर फोटो में दिखाया है कि यह HP का प्रिंटर 2.5 Amp का है और ये 240 Volt पर चलता है। तो आप इसी के आधार पर पता लगा सकते हैं। 

इसके लिए आपको प्रिंटर के वोल्टेज को प्रिंटर की Ampare से गुणा करनी होगी। 

जैसे:- वोल्टेज = 240, Amp = 2.5
240*2.5 = 600

तो ये प्रिंटर 600watt का Power Consumption करेगा। इस तरह आप किसी भी तरह के प्रिंटर की power Consumption निकाल सकते हैं।

Note:- उपर बताए गए Watt से ये मत समझना की ये हमेशा ही इतनी बिजली खपत करेगा। ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। जानने के लिए नीचे पोस्ट को पढ़े।

Printer Power Consumption Savings Tips

Printer की Power Consumption को कम करने के कुछ टिप्स आपको नीचे बताए गए हैं। इन्हें ध्यान से पढ़े। 
  1. जब भी आपको प्रिंटर की ज्यादा जरूरत हो तो तभी इसको चालू करें। 
  2. प्रिंटर को एक बार चालू करने के बाद बार बार बंद और चालू न करें। 
  3. अगर आप प्रिंटर को बार बार बंद और चालू करते हैं तो इससे printer आपकी पॉवर को ज्यादा कंज्यूम करेगा। 
  4. जब आप प्रिंटर को चालू करते हैं तो वह शुरू में ज्यादा से ज्यादा Current लेता है और उसके बाद नोर्मल 4-5 watt पर ही चलता रहता है।
  5. इसलिए कोशिश करें की प्रिंटर को ज्यादा काम होने पर ही चालू करे और उसके बाद एक बार ही बंद करें।
तो अगर आप उपर बताए गए सभी स्टेप्स को फॉलो करेंगे तो Printer की Power Consumption को कम कर सकते हैं। 

Sony Digital Printer UP D897 Power Consumption

जैसे कि हमनें आपको उपर सब कुछ क्लियर कर दिया है। तो अब आप खुद से किसी भी प्रिंटर की Power Consumption को निकाल सकते हैं। 

Conclusion:- हमने इस पोस्ट में आपके सवाल का जवाब दे दिया है। हमें पुरा विश्वास है कि इस पोस्ट से आपको हेल्प मिली होगी। 

अगर पोस्ट अच्छी लगी है तो दोस्तो को शेयर करना ना भूलें।
Share:

How to open and close computer system?

How to open and close computer system?

Computer को सीखने की इच्छा सभी की होती है, लेकिन बात आती है कि Computer System को Open and Close कैसे किया जाता है। आप में से शायद बहुत लोगो को पता होगा, लेकिन कुछ नए लोगो को नही पता होता है।

आप सभी को यह तो अच्छे से पता है कि कंप्यूटर क्या है? अगर किसी को नहीं पता तो आप इस लिंक पर क्लिक करके जान सकते हैं। What is Computer?

मेरा नाम दीपक कुमार है। मैं 2020 से Blogs और Websites पर काम कर रहा हूं। आज में आपको बताने जा रहा हूं, How to open and close computer system?

इस आसान तरीके से करें कंप्यूटर को बंद और चालू

हमने इस पोस्ट को आसान से भी आसान तरीके से लिखने की कोशिश की है। हमें पूरा विश्वास है कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप Computer System Open and Close करना बहुत ही अच्छे से सीख जाएंगे।
How to open and close computer system?, What is computer, computer switch off, computer switch on
वैसे कंप्यूटर भी अलग अलग प्रकार के होते हैं। Classification of Computer आप इस लिंक पर क्लिक करके जान सकते हैं। लगभग सभी कंप्यूटर एक जैसे ही Open and Close होते हैं। आगे हम कंप्यूटर को बंद चालू करना बताएंगे।

तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ें और सीखें कि किसी कंप्यूटर को Open and Close कैसे किया जाता हैं।

How to Open a Computer System?

Computer System Open करने के लिए आपको कुछ बिंदु नीचे दिए गए हैं। जिन्हे Follow करके आप Computer System को Open कर सकते हैं।
  • Switch on Power Supply
  • Switch on UPS
  • Switch on Monitor
  • Switch on CPU
  • After Some Processing Computer System Start and Display Desktop
Computer System को Open करने के लिए उपर बताए गए सभी बिंदुओं को विस्तार से समझते हैं।

1. Switch on Power Supply
Computer System Open करने के लिए सबसे पहले आपको अपने Switch Board की Power Supply को On करना होगा। मतलब कि आपने जिस बिजली के बोर्ड में कंप्यूटर के प्लग को लगाया है उसकी Switch को चालू करना होगा। 
Switch on Power Supply

2. Switch on UPS
इसके बाद आपको अपने कंप्यूटर के UPS को चालू करना होगा। हर एक कंप्यूटर में Power Backup के लिए एक UPS दिया होता है। कुछ कंप्यूटर में ये नही भी हो सकता है। अगर आपके कंप्यूटर में नही है तो आप इसको रहने दीजिए।
Switch on UPS

3. Switch on Monitor
इसके बाद आपको अपने कंप्यूटर के Monitor को चालू करना होगा। Monitor को चालू करने के लिए उसमे एक बटन दिया होता है। जिसको दबाकर आप Monitor को चालू कर सकते है।
Switch on Monitor

4. Switch on CPU
इसके बाद आपको अपने कंप्यूटर के CPU को चालू करना होगा। CPU चालू करने के लिए उसमे एक बटन होता है जो आपको दबाना होगा।
Switch on CPU

5. After Some Processing Computer System Start and Display Desktop
जैसे ही आप इन सभी को चालू करेंगे तो आपको कंप्यूटर बहुत थोड़ा सा समय लेगा और उसके बाद Open हो जाएगा और आपके Monitor में Desktop दिखने लग जायेगी।
Computer Open

बधाई हो🎉अब आपका Computer System Open हो गया है, अब आप इसको चला सकते हैं।

How to Close a Computer System

Computer System Close करने के लिए आपको कुछ बिंदु नीचे दिए गए हैं। जिन्हे Follow करके आप Computer System को Close कर सकते हैं।
  • Go to Windows
  • Click on Switch off
  • Switch off Monitor
  • Switch off UPS
  • Switch off CPU
  • Switch off Power Supply
Computer System को Open करने के लिए उपर बताए गए सभी बिंदुओं को विस्तार से समझते हैं।

1. Go to Windows
Computer System को Close करने के लिए सबसे पहले आपको अपने Monitor Screen में Window पर जाना होगा और उस पर क्लिक करना होगा। Window आपको Monitor Screen में Left Side में नीचे की तरफ मिलेगी।
Go to Windows

2. Click on Switch off
अब आपको Switch off पर क्लिक करना होगा। यहां अगर आप Arrow पर क्लिक करेंगे तो आपको Switch user, Log off, Lock, Restart, Sleep, आदि Option भी मिलते है, लेकिन आपको सिर्फ Switch Off पर ही क्लिक करना हैं।
Switch off

3. Switch off Monitor
इसके बाद आपको अपने Monitor को उसमे दिए गए बटन से बंद कर देना है। 

4. Switch off UPS
इसके बाद आपको अपने UPS को Switch Off कर देना है।

5. Switch off CPU
इसके बाद आपको अपने CPU को Switch off कर देना है। 

6. Switch off Power Supply
अब आपको अपने मुख्य बोर्ड की Power Supply को बंद कर देना हैं।

Note:- आप अपने Direct मुख्य बोर्ड की Power Supply का Switch Off करके भी Computer System को बंद कर सकते हैं।

लेकिन ऐसी गलती कभी भी मत करना, क्योंकि ऐसा करने से आपके कंप्यूटर की File and Data, Delete or Crupt हो सकता है।

Conclusion:- हमने इस पोस्ट में बहुत अच्छी तरह बता दिया है कि आप अपने Computer System को Open and Close कर सकते हैं। 

अगर इस पोस्ट से आपको मदद मिली हो तो अपने दोस्तो में पोस्ट को जरूर शेयर करें।

Share:

What is Keyboard in Hindi | Keyboard Me Kitni Keys Hoti Hai | Keyboard Full Tricks

What is Keyboard

कीबोर्ड क्या है। इसे कैसे प्रयोग करते हैं। तथा इसमें किस तरह की कुंजियां होती हैं तथा उनके क्या क्या कार्य होते हैं। यह सब हम इस पोस्ट में आपको बताएंगे।

आप हमारी इस पोस्ट को अंत तक पढ़ते रहें तथा सभी कुंजियों को ध्यान से समझें। हमें उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट बहुत ही पसंद आएगी।

Keyboard Kya Hai

कीबोर्ड सबसे महत्वपूर्ण इनपुट डिवाइस है। इससे कंप्यूटर में डाटा या सूचना इनपुट कराई जाती हैं। यह टाइपराइटर के समान होता है।

Keyboard Me Kitni Keys Hoti Hai

कीबोर्ड में कुल 104 कुंजियां होती है। इसमें कुंजियों (Keys) को दबाकर कोई भी Text, जैसे- शब्द, संख्याएं और अनेक तरह के चिन्ह टाइप किए जा सकते हैं।

कीबोर्ड में विभिन्न प्रकार की कुंजियां होती हैं, जो नीचे लिखी गई हैं। हम इन कुंजियों को नीचे विस्तारपूर्वक बता रहे हैं। तो आप इन्हें ध्यान से पढ़िए और समझिए।

"कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है। जो मनुष्य द्वारा दिए गए डेटा तथा निर्देशों को कंप्यूटर में प्रवेश कराता है।"

वैसे तो कंप्यूटर में बहुत सी इनपुट Devices होती हैं परंतु कीबोर्ड उन सब में से एक बहुत ही महत्वपूर्ण इनपुट डिवाइस है। कीबोर्ड के बिना कंप्यूटर को चलाना नामुमकिन है तो आइए समझते हैं कीबोर्ड की सभी कुंजियों  के बारे में कि वह कैसे प्रयोग में लाई जाती हैं तथा उनका क्या क्या प्रयोग है।

सबसे पहले तो आप यह समझ ले कि इनपुट डिवाइस होती क्या है। इनपुट डिवाइस वह डिवाइस होती है जिनका कार्य

  • यूजर द्वारा दिए गए डाटा को कंप्यूटर सिस्टम को उपलब्ध कराना
  • यूजर द्वारा दिए गए निर्देशों को प्राप्त करना
  • यूजर  द्वारा दिए गए कमांडो को प्राप्त करना
यह सभी इनपुट डिवाइस के कार्य होते हैं।

मुख्य इनपुट युक्तियां, कीबोर्ड, माउस, जॉय स्टिक, स्कैनर, लाइट पेन, वीडियो कैमरा, वेब कैमरा, वॉइस रिकॉग्निशन, ऑप्टिकल मार्क रीडर आदि हैं।

कीबोर्ड की सभी कुंजियां तथा उनके कार्य 
What is keyboard in Hindi, keyboard definition
Keyboard 

अल्फाबेट कुंजियां (Alphabet Keys)
Alphabet Keys
Alphabet Keys

इन कुंजियों से अंग्रेजी अल्फाबेट के अक्षर टाइप किया जाते हैं। किसी अल्फाबेट कूंजी को अकेले दबाने पर छोटा अक्षर टाइप होता है तथा शिफ्ट के साथ दबाने पर बड़ा अक्षर टाइप होता है।

नंबर कुंजियां (Number Keys)

अल्फाबेट कुंजियां से ऊपर की पंक्ति में नंबर कुंजियां होती है। इन कुंजियों से 0-9 तक के अंक टाइप किए जाते हैं। नंबर्स टाइप करने के लिए कीबोर्ड में कुंजियों का एक अलग सेट भी होता है जिसे न्यूमैरिक कीपैड (Numeric Key Pad) कहा जाता है।

एस्केप कुंजी (Escape Key) 

इस कुंजी का उपयोग कुछ प्रोग्रामों से बाहर निकलने के लिए किया जाता हैं। यह कुंजी cancel कुंजी की तरह कार्य करती है। 

फंक्शन कुंजियां (Function Keys) 

F1 से F12 तक की कुंजियों को फंक्शन कुंजी कहते हैं। इनका प्रयोग कंप्यूटर में परिभाषित विशिष्ट कार्यों के लिए किया जाता है। इनका कार्य चल रहे प्रोग्राम पर भी निर्भर करता है। 

कर्सर कंट्रोल कुंजियां (Cursor Control Keys) 

इन कुंजियों पर तीर के चिह्न छपे होते हैं। इन कुंजियों से कर्सर को डेस्कटॉप पर कहीं भी ले जाया जा सकता है। किसी तीर की कुंजी को दबाने पर कर्सर उस पर छपे तीर की दिशा में एक स्थान से आगे चला जाता है, जैसे - ⬇ कुंजी को दबाने पर कर्सर एक लाइन नीचे की ओर चला जाएगा और ➜ कुंजी को दबाने पर कर्सर एक स्थान से दाईं ओर चला जाएगा।

न्यूमेरिक कुंजिया (Numeric Key) 
Numeric Keys
Numeric Keys

यह कीबोर्ड के दाएं भाग में कुंजियों का एक विशेष समूह होता है, जिससे केवल न्यूमैरिक डाटा तैयार किया जाता है। इस कीपैड का स्वरूप एक साधारण इलेक्ट्रॉनिक केलकुलेटर की तरह होता है।

हम कंप्यूटर में जो डाटा भरते हैं, उसमें लगभग 90% डाटा न्यूमेरिक होता है। इस पर हम केवल एक हाथ से numeric डाटा टाइप कर सकते हैं। इसको चालू करने के लिए Num-Lock बटन ON होना चाहिए।

कंट्रोल कुंजी (Control Key) 

इस कुंजी का उपयोग कुछ विशेष आदेश देने के लिए अन्य कुंजियों के साथ किया जाता है।
उदाहरण के लिए, Windows में कंट्रोल कुंजी (Ctrl) के साथ C कुंजी या Ctrl+C दबाने पर कोई चुनी हुई चीज या वस्तु Clip board में Copy हो जाती है।

कंट्रोल कुंजियों का उपयोग इसी प्रकार विभिन्न शॉर्टकट आदेश देने के लिए किया जाता है। 

आल्ट कुंजी (Alt Key) 

इस कुंजी का उपयोग भी कंट्रोल कुंजी की तरह कुछ शॉर्टकट आदेशों में किया जाता है।

एंटर कुंजी (Enter Key) 

इसका उपयोग किसी प्रोग्राम को चुनने के बाद उसमें प्रवेश करने के लिए किया जाता है। एमएस वर्ड में एंटर दबाने पर आदेश कंप्यूटर को भेज दिया जाता है। 

शिफ्ट कुंजियां (Shift Keys) 

इन कुंजियों का उपयोग टाइप करते समय अक्षरों को बड़ा टाइप करने के लिए किया जाता है, यदि किसी कुंजी पर दो चिन्ह छपे हैं तो शिफ्ट के साथ दबाने पर ऊपर का चिन्ह टाइप होता है। Keyboard पर दो शिफ्ट कुंजी होती हैं।

बैक स्पेस कुंजी (Backspace Key) 

इसे दबाने पर कर्सर से बाईं ओर का टेक्स्ट मिट (Delete) जाता है। 

कैप्स लॉक कुंजी (Caps Lock Key)

इस कुंजी को चालू करने के लिए कुंजी को एक बार दबाना पड़ता है, तथा बंद करने के लिए एक बार फिर दबाना पड़ता है। इस कुंजी को चालू कर देने के बाद अल्फाबेट शब्द बड़े लिखे जाते हैं। इस कुंजी का प्रभाव केवल अल्फाबेट कुंजियां पर ही पड़ता है।

प्रिंट कुंजी (Print Key) 

कीबोर्ड पर कंट्रोल तथा P कुंजी या Ctrl+P दबाने पर उस समय कंप्यूटर पर चल रहे एप्लीकेशन का जो भी डाटा होता है। वह प्रिंट होने के लिए प्रिंटर को भेज दिया जाता है।

जैसे एमएस वर्ड में यदि हम कोई डाक्यूमेंट्स बना रहे हो तो हम कंट्रोल तथा P या Ctrl+P  कुंजी को दबाकर उस डाक्यूमेंट्स को प्रिंट कर सकते हैं।

PrtScr Key (Partscreen Key)

इस कुंजी का प्रयोग करके कंप्यूटर में चल रहे किसी भी प्रोग्राम का Screenshot ले सकते हैं। यह कुंजी वहां पर ज्यादा काम आती है।

जब हम कंप्यूटर में कोई विशेष कार्य कर रहे होते हैं या फिर हम टाइपिंग कर रहे होते हैं तथा हमें अपनी टाइपिंग स्पीड का रिकॉर्ड रखना होता है, तो हम इस कुंजी को दबाकर उसका स्क्रीनशॉट ले लेते हैं और हम किसी भी एप्लीकेशन को चलाते समय इस कुंजी का उपयोग करके उस का स्क्रीनशॉट ले सकते हैं।

❤हमारी इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के लिए आपका वहुत वहुत धन्यवाद !
मैं आशा करता हूँ कि आपको हमारी यह पोस्ट वहुत पसन्द आयी होगी।
तो आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी हमे कमेंट करके जरूर बताएं
और हमारी इस Website को Subscribe और हमे Follow जरूर कर लें
जिससे कि हम जब भी कोई पोस्ट डालें तो उसका नोटिफिकेशन आप तक पहुंच सके
Share:

What is Computer - कंप्यूटर क्या है

What is Computer

आप कंप्यूटर के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो हमारे इस Blog में आपको कंप्यूटर के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी।

इस Lesson में आपको पता चलेगा कि कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर की फुल फॉर्म क्या है? कंप्यूटर के प्रकार और कंप्यूटर के विभिन्न भागों के बारे में आपको पूरी जानकारी मिलेगी।

जब आप कंप्यूटर का नाम सुनते हैं तो सैकड़ों विचार दिमाग में आते हैं। क्योंकि कंप्यूटर अकेले सैकड़ों गतिविधियों को कर सकता है। हाँ, सैकड़ों! कंप्यूटर को परिभाषित करना थोड़ा मुश्किल है। ऐसा इसलिए है क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति विभिन्न कार्यों के लिए कंप्यूटर का उपयोग करता है।

यदि आप एक लेखक से पूछते हैं कि कंप्यूटर क्या है? तो उसने शायद कहा होगा कि कंप्यूटर एक प्रकार की मशीन है। यही कारण है कि हम कह सकते हैं कि कंप्यूटर किसी भी अर्थ में नहीं बनाया जा सकता है। 

प्रत्येक व्यक्ति के उपयोग के आधार पर कंप्यूटर का अर्थ अलग है। भले ही कंप्यूटर का इतना अर्थ है, हमने आपके लिए कंप्यूटर को परिभाषित करने का प्रयास किया है। 

आप कंप्यूटर की प्रमाणित परिभाषा के रूप में इस कंप्यूटर की परिभाषा नहीं ले सकते हैं। क्योंकि कंप्यूटर का अर्थ भी काम के आधार पर बदलता है।

Definition of Computer 


“Computer एक मशीन है जो कुछ निश्चित निर्देशों के अनुसार काम को पूरा करती है 
या 
"कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो हमारे द्वारा दिए गए निर्देशों को हमारी समझने योग्य भाषा में बदलती है" 

कंप्यूटर एक अंग्रेजी शब्द है। कंप्यूटर का अर्थ हिंदी में "गणना" है। इसका मतलब है कि कंप्यूटर एक कैलकुलेटर है। लेकिन, यह कहना गलत होगा कि कंप्यूटर एक Calculate मशीन है। क्योंकि कंप्यूटर जोड़ने के अलावा सैकड़ों अलग-अलग कार्य भी करता हैं।

तो आज भी, हम एक परिभाषा में कंप्यूटर को बांधने में सक्षम नहीं हैं। विभिन्न लोगों और संगठनों ने कंप्यूटर पूर्ण फॉर्म का वर्णन किया है। लेकिन, इनमें से कोई भी मानक पूर्ण रूप नहीं है। हमने आपको नीचे कंप्यूटर का पूरा रूप दिया है। जो काफी लोकप्रिय और सार्थक है। 

C      ----     Commonly
O      ----     Operated
M      ----     Machine
P       ----     Particularly
U      ----     Used for
T       ----    Technical
E      ----     Education and
R      ----     Research

Means,
Commonly Operated Machine Particularly Used for Technical Education and Research 

यही है, सामान्य स्वचालित मशीन विशेष रूप से प्रौद्योगिकी शिक्षा और अनुसंधान में उपयोग की जाती है।

कंप्यूटर के प्रकार


कंप्यूटर के तीन मुख्य प्रकार हैं।
1.     अनुसंधान (Application)
2.     उद्देश्य (Purpose)
3.     आकार (Size)

कंप्यूटर का परिचय

कंप्यूटर अकेले अपना काम नहीं कर सकता है। कंप्यूटर एक कार्य करने के लिए विभिन्न प्रकार के Hardware and Software की मदद लेता है। आप अगले पाठ में इन कंप्यूटर घटकों और कार्यक्रमों के बारे में जान सकते हैं। एक आम कंप्यूटर इस तरह दिखता है।

what is computer in hindi, Computer
what is computer in hindi

जिस कंप्यूटर को आप ऊपर देख रहे हैं उसे 'डेस्कटॉप कंप्यूटर' कहा जाता है। इस प्रकार का कंप्यूटर वर्तमान समय में अधिक लोकप्रिय है। इस तस्वीर में आप कई अलग-अलग टूल्स देखेंगे, वे सभी कंप्यूटर मशीन बनाते हैं। आइए इन उपकरणों के बारे में संक्षेप में जानें।

1.          System Unit/ CPU

CPU, Mother Board, System Box
मदर बोर्ड या CPU

सिस्टम यूनिट एक ऐसा बॉक्स है जिसमें कंप्यूटर अपने कार्य करने के लिए आवश्यक उपकरण से लैस है। सिस्टम यूनिट को 'सीपीयू' भी कहा जाता है। इसमें Mother Board, Processor इत्यादि Parts होते है, जो कंप्यूटर को काम करने में help करते है। इसे केस भी कहा जाता है।

2.          Monitor

Monitor, LCD, LED
Monitor

Monitor एक आउटपुट टूल है जो हमें दिए गए निर्देशों के परिणाम दिखाता है। यह बिल्कुल टीवी की तरह है। वर्तमान में, मॉनिटर्स को LCD और LED द्वारा प्रतिस्थापित किया गया है।

3.          Keyboard

Keyboard, Keys, What is Keyboard
Keyboard

कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है जिसका उपयोग कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए किया जाता है। इसकी सहायता कंप्यूटर को वांछित डेटा और निर्देश दिया जाता है। Keyboard में विभिन्न प्रकार की keys होती हैं, Keys के माध्यम से डेटा और निर्देश कंप्यूटर में भेजें जाते हैं। 

4.     4.  .  Mouse

what is mouse in computer, Mouse, Mouse symbol
Mouse


Mouse एक इनपुट डिवाइस है जो कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए होता है। हम इसकी help से कंप्यूटर में उपलब्ध कार्यक्रम का चयन करते हैं।

5.   Speakers

Spekers, Computer spekers
Spekers

स्पीकर एक आउटपुट टूल हैं जो हमें कंप्यूटर से आवाज सुनने में मदद करता है। इनके माध्यम से, हम गानों, फिल्मों, कार्यक्रमों और खेलों आदि में ध्वनि सुनते हैं।


अगर आपको हमारा यह blog पसंद आया हो तो Please हमारे इस ब्लॉग को like करे और हमारी वेबसाइट को फॉलो जरूर कर दें 

Share:

Classification of Computer

कंप्यूटर का वर्गीकरण

Classification of Computer

कंप्यूटर को उनकी रूपरेखा, कामकाज, उद्देश्य इत्यादि के आधारों पर विभिन्न वर्गों में विभाजित किया जा सकता है।                   
  1. आकार के आधार पर (On the Basis of Size)
  2. उद्देश्यों के आधार पर (On the Basis of Purpose)
  3. अनुप्रयोग के आधार पर (On the Basis of Applications)

आकार के आधार पर (On the Basis of Size)

आकार के आधार पर कंप्यूटर पांच प्रकार के होते हैं।  जिनका संक्षिप्त विवरण नीचे दिया गया है। 

  1. माइक्रो कंप्यूटर (Micro Computer)

Micro computer, Computer
Micro Computer

यह कंप्यूटर इतने छोटे होते हैं कि इन्हें डेस्क पर सरलता पूर्वक रखा जा सकता है। आधुनिक युग में माइक्रो कंप्यूटर फोन के आकार, पुस्तक के आकार तथा घड़ी के आकार तक में उपलब्ध हैं।

इनकी क्षमता लगभग एक लाख क्रियाएं प्रति सेकंड होती है। इन कंप्यूटरों का उपयोग ज्यादातर व्यवसाय तथा चिकित्सा के क्षेत्र में किया जाता है। आजकल यह सभी PC की श्रेणी में आते हैं। 
उदाहरण :-  APPLE MAC, iMAC, इत्यादि।

माइक्रोकंप्यूटर कई प्रकार के होते हैं।
(i) डेस्कटॉप कंप्यूटर (Desktop Computer)⇒ 

desktop-computer,computer
Desktop Computer

यह पर्सनल कंप्यूटर का सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला रूप है। ज्यादातर घरों और व्यापारिक स्थानों पर आपको बेस्ट टॉप ही मिलेंगे, क्योंकि यह सस्ते, मजबूत और ज्यादा चलने वाले होते हैं।

(ii) लैपटॉप (Laptop)
Laptop, Computer
Laptop

कुछ ही वर्षो में हुए तकनीकी विकास ने माइक्रो कंप्यूटर का आकार इतना छोटा कर दिया है कि उन्हें सरलता पूर्वक इधर उधर ले जाया जा सकता है और साधारण व्यक्ति भी इनकी खरीदारी कर सकता है। लैपटॉप को कभी-कभी नोटबुक भी कहा जाता हैं।

(iii) टैबलेट पर्सनल कंप्यूटर (Tablet Personal Computer)⇒
Tablet, Mobile, Laptop
Tablet

टैबलेट और लैपटॉप एक तरह से समान है, परंतु टेबलेट PC कंप्यूटर से ज्यादा सुविधाजनक है। यह दोनों ही पोर्टेबल हैं, परंतु परंतु इन में प्रयोग होने वाले सॉफ्टवेयर, स्क्रीन आदि से ये भिन्न हो जाते हैं। टैबलेट PC की पर स्क्रीन पर यूजर बिना कीबोर्ड की सहायता से लिख सकते हैं, परंतु नोटबुक पर नहीं लिख सकते हैं।

(iv) पॉमटॉप (Palmtop)
Palmtop computer
Palmtop 

यह लैपटॉप की तरह पोर्टेबल पर्सनल कंप्यूटर है। यह लैपटॉप से भी छोटा और हल्का होता है। यह हेंडलेड प्रणाली का इस्तेमाल करता है। 

(v) वर्कस्टेशन (Workstation)
Workstation, Computer
Workstation 

यह अभियांत्रिकी, तकनीकी और ग्राफ़िक्स के कार्यो के साथ - साथ कंप्यूटर के एकल व्यक्ति के साथ पारस्परिक व्यवहार में भी प्रयोग होता है।   

       2. मिनी कंप्यूटर (Mini Computer)
Mini-Computer, Computer
Mini Computer

मध्यम आकार के इन कंप्यूटर की कार्य क्षमता तथा कीमत दोनों ही माइक्रो कंप्यूटर की तुलना में अधिक होती हैं। जिस कारण यह व्यक्तिगत प्रयोग में नहीं लाए जाते हैं।

इस प्रकार के कंप्यूटरों पर एक या एक से अधिक व्यक्ति एक समय में एक से अधिक कार्य कर सकते हैं। इनका उपयोग छोटी या मध्यम स्तर की कंपनियां करती हैं। इनकी गति 10 से 30 MIPS (Mega Instructions Per Second) होती हैं।
उदाहरण :-  HP 9000, RISC 6000, AS 400 इत्यादि।

       3. मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer) 
Mainframe-computer,Computer
Mainframe Computer
 

यह कंप्यूटर आकार में अत्यधिक बड़े होते हैं। इन कंप्यूटरों की कार्य क्षमता और कीमत भी मिनी तथा माइक्रो कंप्यूटर से अधिक होती है। इन कंप्यूटर का उपयोग बड़ी कंपनियों या सरकारी विभागों में ही किया जाता है।

इन कंप्यूटर का उपयोग भुगतान का ब्यौरा रखने, दिलों को भेजने कर्मचारियों का भुगतान करने आदि में किया जाता है।
उदाहरण :-  IBM 4381, ICL 39, UNIVAC 1110 आदि।

       4. सुपर कंप्यूटर (Super Computer)   
Super-computer, Computer
Super Computer

सुपर कंप्यूटर सबसे अधिक गति वाली तथा सबसे अधिक मेमोरी रखने वाले होते हैं। इनका आकार एक सामान्य कमरे के बराबर होता है। भारत के पास भी सुपर कंप्यूटर है तथा भारत के प्रथम सुपर कंप्यूटर का नाम 'परम' (PARAM) हैं। इसका विकास C-DAC ने किया था।

सुपर कंप्यूटर का मुख्य उपयोग मौसम की भविष्यवाणी करने, एनिमेशन तथा चलचित्र का निर्माण करने, अंतरिक्ष यात्रा के लिए अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजने, बड़ी वैज्ञानिकी और शोध प्रयोगशालाओं में शोध व खोज करने आदि कार्यों में किया जाता है। 
उदाहरण :-   PARAM, PARAM-10000, CRAY -1, CRAY -2, NEC-500 आदि।

उद्देश्यों के आधार पर (On the Basis of Purpose)

उद्देश्यों के आधार पर कंप्यूटर दो प्रकार के होते हैं, जिनको नीचे बताया गया है।

1. सामान्य उद्देश्य कंप्यूटर (Genral PurposeComputer)

सामान्य उद्देश्य को पूरा करने के लिए इन कंप्यूटर का प्रयोग किया जाता है। इनके द्वारा दस्तावेज तैयार किए जाते हैं उन्हें छापने डाटा बेस बनाने तथा शब्द प्रक्रिया द्वारा पत्र तैयार करने आदि कार्य किए जाते है।

2. विशिष्ट उद्देश्य कंप्यूटर (Special Purpose Computer)

विशिष्ट उद्देश्य की पूर्ति के लिए इन कंप्यूटरों का प्रयोग किया जाता है। इनका उपयोग अंतरिक्ष विज्ञान, मौसम विज्ञान, उपग्रह संचालन, यातायात नियंत्रण, कृषि विज्ञान इंजीनियरिंग भौतिक तथा रासायनिक विज्ञान में शोध उपग्रह संचालन इत्यादि क्षेत्रों में विशिष्ट उद्देश्यों के लिए किया जाता है। इसमें प्रयोग किए गए सीपीयू की क्षमता अधिक तेज होती है।

अनुप्रयोग के आधार पर (On the Basis of Applications)

अनुप्रयोग के आधार पर कंप्यूटर तीन प्रकार के होते हैं। जिन्हें नीचे दिया गया है।

1. एनालॉग कंप्यूटर (Analog Computer)
Analog-computer,computer
Analog Computer

Analog-Computer, Speedometer, Computer
Speedometer

भौतिक मात्राओं जैसे- तापमान, दाब, लंबाई आदि को मापकर उनके परिणाम को अंको में प्रस्तुत करने के लिए एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है, क्योंकि यह कंप्यूटर मात्राओं को अंको में प्रस्तुत करते हैं। इसलिए इनका उपयोग विज्ञान और इंजीनियरिंग क्षेत्रों में अधिक किया जाता है। 

उदाहरण : स्पीडोमीटर, भूकंप सूचक यंत्र आदि। 

2. डिजिटल कंप्यूटर (Digital Computer)
Digital-computer,
Digital Computer

अंको की गणना करने के लिए डिजिटल कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है। अब अधिकतर कंप्यूटर डिजिटल कंप्यूटर की श्रेणी में ही आते हैं। यह इनपुट किए गए डेटा और प्रोग्राम स्कोर 0 और 1 में परिवर्तित करके इन्हें इलेक्ट्रॉनिक रूप में प्रस्तुत करते हैं।

डिजिटल कंप्यूटर का उपयोग व्यापार में, घर के बजट में किया जाता है।
उदाहरण : डेस्कटॉप कंप्यूटर, लैपटॉप आदि।

3. हाइब्रिड कंप्यूटर (Hybrid Computer)
Hybrid-computer,computer
Hybrid Computer

हाइब्रिड कंप्यूटर उन कंप्यूटरों को कहा जाता है जिनमें एनालॉग तथा डिजिटल दोनों ही कंप्यूटर के गुण शामिल होते हैं अर्थात एनालॉग तथा डिजिटल के मिश्रित रूप को हाइब्रिड कंप्यूटर कहा जाता है।

इसके द्वारा भौतिक मात्राओं को अंको में परिवर्तित करके उसे डिजिटल रूप दिखाते हैं।
उदाहरण : ECG और DIALYSIS मशीन।

आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी, हमे नीचे  Comment करके जरूर बताएं। 
Share:

Computer Input Devices In Hindi


कंप्यूटर में इनपुट डिवाइस क्या होते हैं

Computer Input Devices In Hindi

कंप्यूटर में इनपुट डिवाइस क्या होते हैं तथा उन्हें कैसे प्रयोग करते हैं। आइये देखते हैं।

इनपुट डिवाइस (Input Device) 
Computer Input Devices In Hindi, Input Device
Computer Input Devices

मनुष्य द्वारा दिए गए डेटा तथा निर्देशों को कंप्यूटर में प्रवेश कराने के लिए जिन Device का प्रयोग किया जाता है, उन्हें Input Devices कहते हैं।

"Input Devices वे Device होते है , जो हमारे द्वारा दिए गए आदेशों या सूचनाओं को 
कंप्यूटर के CPU तक पहुंचाते हैं।"


कंप्यूटर में इनपुट डिवाइस के कुछ मुख्य कार्य होते हैं।

  • यूजर द्वारा दिए गए डाटा को कंप्यूटर सिस्टम को उपलब्ध कराना
  • यूजर द्वारा दिए गए निर्देशों को प्राप्त करना
  • यूजर द्वारा दिए गए कमांडो को प्राप्त करना 

मुख्य इनपुट डिवाइस keyboard, Mouse, Joystick, Scanner, Light Pen, Voice Recognization System, Optical Mark Reader, Magnetic Ink Kunji, Character Recognition, Web Camera, Video Camera आदि।

1. कीबोर्ड (Keyboard)
Computer Keyboard, Keyboard
Keyboard

 कीबोर्ड सबसे महत्वपूर्ण इनपुट डिवाइस है। इससे कंप्यूटर में डाटा सूचना इनपुट कराई जाती है। यह टाइपराइटर के समान होता है। इसमें कुल 104 keys होती हैं।
यहां पर आप कीबोर्ड के बारे में पूरी जानकारी पा सकते है।Keyboard की पूरी जानकारी 


2. पॉइंटिंग डिवाइस (Pointing Device) 

पोंटिंग डिवाइसेज का प्रयोग मॉनिटर की स्क्रीन पर कर्सर या प्वाइंटर को एक स्थान से दूसरे स्थान को ले जाने के लिए किया जाता है। कुछ मुख्य रूप से प्रयोग में आने वाली Pointing Device नीचे दी गई है।

(i) Mouse
Computer Mouse, Mouse
Mouse


माउस एक प्रकार की Pointing Device है। इसका प्रयोग कर्सर (टेक्स्ट में आपकी पोजीशन दर्शाने वाली Blinking Point) या Pointer को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने के लिए करते हैं।

इसके अतिरिक्त माउस का प्रयोग कंप्यूटर में Graphics की सहायता से कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए करते हैं। माउस दो प्रकार के होते हैं।
बायर माउस तथा वायरलेस माउस।

(ii) Trackball
Trackball, Computer Trackball
Trackball


ट्रैकबॉल एक प्रकार की Pointing device है, जिसे माउस की तरह प्रयोग किया जाता है। इसमें एक बोल ऊपरी सतह पर होती है। इसका प्रयोग कर्सर के मूवमेंट को कंट्रोल करने के लिए किया जाता है।

(iii) JoyStick
Joystick, Computer Joystick
Joystick


JoyStick एक प्रकार की Pointing Device है, जो सभी दिशाओं में Move करती है और कर्सर के मूवमेंट को कंट्रोल करती है। Joystick का प्रयोग फ्लाइट सिम्युलेटर, Computer Gaming आदि में किया जाता है।

(iv) Light Pen
Light Pen
Light Pen


प्रकाश कलम (Light Pen) एक हाथ से चलाने वाली इलेक्ट्रो ऑप्टिकल(Electro Optical) Pointing Device है, जिसका प्रयोग Drawing बनाने के लिए, ग्राफिक्स बनाने के लिए और मेनू चुनाव के लिए करते हैं।

पैन में छोटे ट्यूब के अंदर एक फोटो सेल होता है। यह पेन स्क्रीन के पास जाकर प्रकाश को Sense करता है तथा उसके बाद पल्स उत्पन्न करता है इसका प्रयोग मुख्य रूप से पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट (Personal Digital Assistant) में करते हैं। इसका प्रयोग स्क्रीन पर किसी विशिष्ट स्थिति को पहचानने के लिए करते हैं।

(v) Touch Screen
Computer Touch Screen
Touch Screen


टच स्क्रीन एक प्रकार की इनपुट डिवाइस है, जो उपयोगकर्ता से तब इनपुट लेता है, जब उपयोगकर्ता अपनी अंगुली को कंप्यूटर स्क्रीन पर रखता है। टच स्क्रीन का प्रयोग निम्न चीजों में किया जाता है।
जैसे ATM, Bank, Super Market, Mobile आदि।

3. Barcode Reader
Bar code Reader
Bar code Reader

यह एक इनपुट डिवाइस होती है। जिसका प्रयोग किसी उत्पाद पर छपे हुए बारकोड को को पढ़ने के लिए किया जाता है। बारकोड रीडर से प्रकाश की किरण निकलती हैं। फिर उस किरण को बारकोड इमेज पर रखते हैं।

बारकोड में एक लाइट Sensitive Detector होता है, जो बारकोड इमेज को दोनों तरफ से पहचानता है। एक बार यह कोड पहचानने के बाद इससे संख्यक कोड में परिवर्तित कर दिया जाता है।

बारकोड रीडर का ज्यादा प्रयोग सुपर मार्केट में किया जाता है, जहां पर बारकोड रीडर के द्वारा आसानी से किसी उत्पाद का मूल्य पढ़ लिया जाता है।

4. ऑप्टिकल मार्क रीडर (Optical Mark Reader-OMR)
Optical Mark Reader,OMR
Optical Mark Reader

ऑप्टिकल मार्क रीडर एक प्रकार की इनपुट डिवाइस है।जिसका प्रयोग किसी कागज पर बनाए गए चिन्हों को पहचानने के लिए किया जाता है यह कागज पर प्रकाश की किरण छोड़ता है और प्रकाश की किरण जिस चिन्ह पर पड़ती हैं, उस चिन्ह को OMR पढ़कर कंप्यूटर को भेज देता है।

OMR की सहायता से किसी Objective type की प्रयोगात्मक परीक्षा की उत्तर पुस्तिका की जांच की जाती है इसकी सहायता से हजारों प्रश्नों का उत्तर बहुत ही कम समय में आसानी से जांचा जा सकता है।

5. ऑप्टिकल करैक्टर रिकग्निशन (Optical Character Recognition-OCR)
Optical Character Recognition, OCR
Optical Character Recognition

यह OMR का ही कुछ सुधरा हुआ रूप होता है। यह केवल  साधारण चिन्हो को ही नहीं, वल्कि छापे गए या हाथ से लिखे गए साफ साफ अक्षरों को भी पढ़ लेता है। यह प्रकाश स्रोत की सहायता से कैरक्टर की शेप को पहचान लेता है।

इस तकनीक को Optical Character Recognition कहा जाता है। इसका उपयोग पुराने दस्तावेज को पढ़ने के लिए किया जाता है।

6. Smart Card Reader (SCR)
Smart Card Reader
Smart Card Reader

स्मार्ट कार्ड रीडर एक इनपुट डिवाइस है, इसका प्रयोग किसी स्मार्ट कार्ड के माइक्रोप्रोसेसर को एक्सेस करने के लिए किया जाता है। स्मार्ट कार्ड दो प्रकार के होते हैं।

मेमोरी कार्ड तथा माइक्रो  प्रोसेसर कार्ड।
मेमोरी कार्ड में नॉन वोलेटाइल मेमोरी स्टोरेज कंपोनेंट होता है, जो डाटा को स्टोर करता है। माइक्रो प्रोसेसर कार्ड में वोलेटाइल मेमोरी और माइक्रोप्रोसेसर Components दोनों होते हैं। कार्ड सामान्यत प्लास्टिक से बना होता है।

7. बायोमेट्रिक सेंसर (Biometric Sensor)
Bio Metric Sensor
Bio Metric Sensor

Biometric Sensor एक प्रकार की इनपुट डिवाइस है जिसका प्रयोग किसी व्यक्ति की अंगुलियों के निशान को पहचानने के लिए करते हैं। बायोमेट्रिक सेंसर का प्रयोग सुरक्षा के उद्देश्य से करते हैं इसका प्रयोग किस संगठन में कर्मचारियों के, संस्थान में विद्यार्थियों की उपस्थिति दर्ज करने के लिए किया जाता है।

8. स्केनर (Scanner)
Scanner,
Scanner

स्केनर का प्रयोग पेपर पर लिखे हुए डाटा या छपे हुए चित्र को डिजिटल रूप में परिवर्तित करने के लिए करते हैं। यह एक ऑप्टिकल इनपुट डिवाइस है जो इमेज को इलेक्ट्रॉनिक रूप में बदलने के लिए प्रकाश को इनपुट की तरह प्रयोग करता है, और फिर चित्र को डिजिटल रूप में बदलने के बाद कंप्यूटर में भेजता है।

स्केनर का प्रयोग किसी दस्तावेज को उसके वास्तविक रूप में स्टोर करने के लिए किया जाता है। जिससे उसमे आसानी से कुछ बदलाव किया जा सके।

9. माइक्रोफोन (Micro Phone-MIC)
Micro Phone, MIC
Micro Phone-MIC

माइक्रोफोन एक प्रकार की इनपुट डिवाइस है। जिसका प्रयोग कंप्यूटर को साउंड के रूप में इनपुट देने के लिए किया जाता है। माइक्रोफोन आवाज को प्राप्त करता है तथा उसे कंप्यूटर के फॉर्मेट में परिवर्तित करता है, जिसे डिजिटल ऑडियो भी कहते हैं।

माइक्रो फोन में आवाज को डिजिटल रूप में परिवर्तित करने के लिए एक सहायक हार्डवेयर की जरूरत पड़ती है। इस सहायक हार्डवेयर को साउंड कार्ड कहते हैं।

आजकल माइक्रोफोन का प्रयोग स्पीच रिकॉग्नाइजेशन सॉफ्टवेयर(Speech Recognization Software) के साथ भी किया जाता है, मतलब इसकी सहायता से हमें कंप्यूटर में टाइप करने की जरूरत नहीं पड़ती बल्कि जो बोला जाता है वह डॉक्यूमेंट में छप जाता है।

10. वेबकैम या कैमरा (Web Camera) 
 Web Camera
Web Camera

Web Camera एक प्रकार की वीडियो Capturing device है। यह एक डिजिटल कैमरा है जिसे कंप्यूटर के साथ जोड़ा जाता है इसका प्रयोग Video Configuration और Online chatting आदि कार्यों के लिए किया जाता है।

हमारी इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के लिए आपका वहुत वहुत धन्यवाद !
तो आपको हमारी यह पोस्ट कैसी  लगी हमे कमेंट करके जरूर बताये। 
Share:

Follow Me On Social Media